क्या चिंतन के बाद कम होगी कांग्रेस की चिंता?

-सुरेश हिन्दुस्थानी- वर्तमान में कांग्रेस पार्टी ने गंभीर चिंतन कर लिया है, लेकिन इस चिंतन में नया कुछ भी नहीं निकला। कांग्रेस के चिंतन शिविर की मुख्य अवधारणा चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सुझाई गई बातों पर पर ही केंद्रित होती दिखाई…
Read More...

नाक में दम करती मंहगाई

-डॉ. वेदप्रताप वैदिक- मंहगाई यदि इसी तरह बढ़ती रही तो देश में अराजकता भी फैल सकती है। ताजा सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस समय थोक चीजों के दाम में 15.08 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो गई है। इतनी मंहगाई 31 साल बाद बढ़ी है। इन तीन दशकों में मंहगाई जब…
Read More...

भोजन, सेहत और स्वाद

-पीके खुराना- भोजन हमारी सेहत का बड़ा स्रोत है। हम जैसा खाते हैं, अंततः वैसे ही बन भी जाते हैं। यह हैरानी की बात है कि एक आध्यात्मिक देश के नागरिक होने के बावजूद हम सरल-सहज भोजन की महत्ता को नहीं समझते। हम भूल गए हैं कि हमारे मनीषी…
Read More...

मंथन के बावजूद दिशाविहीन है कांग्रेस

मंथन के बावजूद दिशाविहीन है कांग्रेस -डॉ. अनिल कुमार निगम- भारत की सबसे पुरानी सियासी पार्टी कांग्रेस बूढ़ी, असामयिक, अप्रासंगिक, असंगत और पूर्ण रूप से बेपटरी हो गई है। कांग्रेस ने उदयपुर के चिंतन शिविर में पार्टी को पुनर्जीवित करने पर…
Read More...

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

चित्रा जोशी उत्तरौड़ा, कपकोट उत्तराखंड आज़ादी के बाद से ही देश में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं. मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम लागू किया गया, समग्र शिक्षा अभियान चलाया गया, स्कूलों में मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था…
Read More...

गेहूं निर्यात पर पाबंदी

भारत सरकार ने अचानक और तुरंत प्रभाव से गेहूं के निर्यात पर पाबंदी लगा दी है। यह सामयिक, कारगर और राष्ट्रीय निर्णय है। राष्ट्रीय संदर्भ इसलिए जरूरी है, क्योंकि हम 2005-07 के दौरान गेहूं का संकट झेल चुके हैं। तब भारत को 71 लाख मीट्रिक टन से…
Read More...

राष्ट्रीय डेंगू दिवस (16 मई को ) : डेंगू के डंक से बचाव के लिए जरूरी है जागरूकता

डेंगू वायरस के संक्रमण से होता है, जो मादा एडीस मच्छर के काटने से फैलता है।भारत में डेंगू एक जानलेवा बीमारी की तरह अपने पांव पसार रहा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए भारत के स्वास्थ्य विभाग द्वारा लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 16 मई…
Read More...

कांग्रेस का परिवारवाद

-सिद्धार्थ शंकर- हाल के पांच राज्यों में बुरी हार के बाद लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस ने परिवारवाद से तौबा करने का फैसला किया है। उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में पार्टी ने फैसला किया है कि अब एक परिवार से केवल एक ही टिकट…
Read More...

शतरंजी चालों से राजनैतिक दलों ने बिगाडा है देश का माहौल

-डा. रवीन्द्र अरजरिया- देश में दलगत राजनीति ने हमेशा से ही फूट डालो, राज करो की नीति अपनाई। दूरगामी योजनायें बनाकर शतरंज की चालें चलीं। जातिगत, आस्थागत और व्यवहारगत विभेदों को हमेशा ही हवा देकर टकराव की स्थितियां पैदा की। भारतीय जनता…
Read More...

सेहतमंद गांव से स्वस्थ भारत मुमकिन है

नरेन्द्र सिंह बिष्ट हल्द्वानी, नैनीताल भारत ने जहां 21वी सदी में प्रवेश किया है वहीं ऐसा लगता है कि पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के दूरस्थ ग्रामो ने स्वास्थ्य सुविधाओं के मामलें में इसके विपरित 12वी सदी में प्रवेश किया है. राज्य के दूरस्थ…
Read More...