पुनर्मिलन

-जोहन पीटर हेबेल- (जोहन पीटर हेबेल (1760-1826) जर्मन लेखकों में अपनी छोटी-छोटी कहानियों के लिए विशेष रूप से जाने जाते हैं। प्रस्तुत कहानी प्रेम की एक अखिण्डत प्यास और एक ऐसे विश्वास की कहानी है, जिसके सहारे आदमी अपनी तमाम भावी सम्भावनाओं…
Read More...

अपनी तुलना दूसरों से न करें

एक बार की बात है, किसी जंगल में एक कौवा रहता था, वो बहुत ही खुश था, क्योंकि उसकी ज्यादा इच्छाएं नहीं थीं। वह अपनी जिंदगी से संतुष्ट था, लेकिन एक बार उसने जंगल में किसी हंस को देख लिया और उसे देखते ही सोचने लगा कि ये प्राणी कितना सुन्दर है,…
Read More...

आखिरी दरवाजा

-यशपाल जैन-  एक फकीर था। वह भीख माँगकर अपनी गुजर-बसर किया करता था। भीख माँगते-माँगते वह बूढ़ा हो गया। उसे आँखों से कम दिखने लगा।  एक दिन भीख माँगते हुए वह एक जगह पहुँचा और आवाज लगाई। किसी ने कहा, 'आगे बढ़ो! यह ऐसे आदमी का घर नहीं है, जो…
Read More...

एहसान

एक बहेलिया था। एक बार जंगल में उसने चिड़िया फंसाने के लिए अपना जाल फैलाया। थोड़ी देर बाद ही एक बाज़ उसके जाल में फंस गया। वह उसे घर लाया और उसके पंख काट दिए। अब बाज़ उड़ नहीं सकता था, बस उछल उछलकर घर के आस-पास ही घूमता रहता। उस बहेलिए…
Read More...

हवाई जहाज की कहानी जानो..

आसमान में ऊंची उड़ान भरते हवाई जहाज को तुमने कई बार देखा ही होगा। पर क्या तुम यह जानते हो कि इसे कब बनाया था और किसने बनाया था? आखिर किसके मन में इसे बनाने का ख्याल आया था। इसे बनाने के पीछे क्या प्रेरणा थी? नहीं पता, कोई बात नहीं। आज हम…
Read More...

रिश्ता राखी का

अनुराग उपाध्याय बाजारों में दुकानें लग चुकी थीं, रंग -बिरंगी प्यारी - प्यारी अच्छी - अच्छी , सुंदर - सुंदर  मनमोहक राखियों ने बाजार की सुंदरता बहुत अधिक बढ़ा दी थी।  सभी बहने भाई अपनी अपनी बहन एवम भाई के लिए राखियां मिठाइयां तोहफे …
Read More...

अपराध की सजा

-सार्थक देवांगन- एक बार की बात है एक गांव में मोलू नाम का आदमी था। गांव के सभी लोग उसकी बहुत इज्ज्त करते थे। क्योंकि वह गांव में सबसे बड़ा था। उसे कोई कुछ नहीं कह पाता था। उसके खिलाफ कोई नहीं जाता था। लेकिन मोलू इस बात का फायदा उठाता था। वह…
Read More...

हो सके तो जिन्दगी ले के आओ……

-सुशील याद- हर निगाह चमक, हरेक होठ, हंसी ले के आओ हो सके, कम्जर्फों के लिए, जिन्दगी ले के आओ, इस अंधेरे में, दो कदम, न तुम चल पाओ, न हम धुधली सही, समझौते की, रौशनी लेके आओ, कुछ अपनी हम चला सके, कुछ दूर तुम्ही चला लो सोच है, कागजी…
Read More...

तेनालीराम की कहानी: तेनालीराम और चोटी का किस्सा

एक दिन बातों-बातों में राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम से पूछा, अच्छा, यह बताओ कि किस प्रकार के लोग सबसे अधिक मूर्ख होते हैं और किस प्रकार के सबसे अधिक सयाने? तेनालीराम ने तुरंत उत्तर दिया, महाराज! ब्राह्मण सबसे अधिक मूर्ख और व्यापारी सबसे…
Read More...

अपनों की कैसी खामोशी?

-रजनीश कांत- अमित जैसे पक्के दोस्त के अचानक बदले व्यवहार ने दिवाकर को हिलाकर रख दिया था। दिवाकर ने अमित से ऐसी कटुतापूर्ण भाषा की उम्मीद तो क्या, सपने में भी कल्पना नहीं की थी। अमित जैसे ही दिवाकर से मुंबई के जुहू बीच पर मिला, दिवाकर पर…
Read More...