अपना-अपना लोकतंत्र

-शशिकांत सिंह शशि- अंग्रेज हमें जो लोकतंत्र दे गये। उसे हमने संभाल कर रखा है। लोकतंत्र ही नहीं कायदे-कानून, फैशन, रीति-रिवाज और दरबारी ठाठ सब सलामत है। लोकतंत्र को तो हवा भी नहीं लगने दी। जस का तस संविधान में रख दिया। चुनाव के दिनों में…
Read More...

त्वचा निखारें उबटन से

हर महिला सुंदर दिखना चाहती है, लेकिन आजकल की भागदौड़ वाली जिंदगी में उसे खुद को पैंपर करने का समय ही नहीं मिल पाता। घर गृहस्थी का झंझट, नौकरी से थके-मांदे घर लौटना, अगले दिन फिर वही रूटीन शुरू हो जाता है। कुछ समय मिलता भी है, तो ब्यूटी…
Read More...

आज भी न बरसे कारे कारे बदरा

-श्रीराम तिवारी- आज भी न बरसे कारे कारे बदरा, आषाढ़ के दिन सब सूखे बीते जावे हैं। अरब की खाड़ी से न आगे बढ़ा मानसून, बनिया बक्काल दाम दुगने बढ़ावे है। वक्त पै बरस जाएं कारे-कारे बदरा, दादुरों की धुनि पै धरनि हरषावे…
Read More...

पहली बरसात (बांग्ला कहानी)

अमर मित्र बूढ़े ने कहा, थाना पीरतला...ग्राम हाथीशाला। अब इस कलकत्ते में ही हूं। पीरतला, हाथीशाला..... किस ओर है? सुप्रिया पूछती है। यहां से इक्यानवे नंबर बस में जाएं तो भेजहाट सड़क पर हाथीशाला-पीरतला पड़ेगा दीदी। बूढ़े ने कहा। वह…
Read More...

ताकि बच्चे करें खुशी से पढ़ाई

आज अभिभावकों की प्राथमिकताओं तथा शिक्षा के बदलते आयामों के अलावा बहुत कुछ ऐसा है जो बच्चों की एकाग्रता में बाधक है। ऐसे में घर में ऐसा माहौल बनाना बेहद जरूरी है कि वे ध्यान लगाकर पढ़ सकें। यह एक गंभीर मसला है और माता-पिता का विशेष ध्यान…
Read More...

हंसने दो

-जयचन्द प्रजापति कक्कू- मां मैं मां नहीं बनना चाहती अभी खेलना चाहती हूं लुकाछिपी का खेल करना चाहती हूं ठिठोली उड़ना चाहती हूं सपनों का पंख लगाकर, यह लिपस्टिक ये चूड़िया ये बालियां घूंघरू पायल क्यों खरीद…
Read More...

 पछतावा…

-डॉ. योगेंद्रनाथ शुक्ल- ये जूते कितने के हैं? साहब, आठ सौ पचास रुपए के। दुकानदार से भाव सुनकर धीरज बाबू ने अपने बेटे को धीरे से समझाया पुनीत! मैं तुम्हें दूसरी दुकान लिए चलता हूं... ये जूते बहुत महंगे हैं। दोनों उस दुकान से बाहर…
Read More...

सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है मूंगफली का तेल

आप खाना बनाने के लिए कौन से तेल का प्रयोग करते हैं? अगर मूंगफली का तेल प्रयोग करते हैं, और अब तक इसके सेहत से भरपूर गुणों के बारे में नहीं जानते तो अब जरूर जान लीजिए, क्योंकि मूंगफली का तेल, खाने के मामले में अन्य सभी तेलों की तुलना भी बेहद…
Read More...

बढ़ी उम्र में भी जारी रखें एक्सरसाइज

एक सवाल जेहन में उठता है कि एक्सरसाइज किस उम्र तक। मौसम का कितना ध्यान रखा जाये। क्या इस गर्मी में बढ़ी उम्र के लोगों के लिये एक्सरसाइज उचित है। इसमें अलग-अलग मत हैं, लेकिन सार यही है कि एक्सरसाइज जारी रहे, कुछ सावधानियों के साथ। सावधानी…
Read More...

दुखी रहना तो एक मानसिक बीमारी है

सच तो यह है कि दुख कोई स्थूल वस्तु या स्वतंत्र अस्तित्व नहीं रखता। दुखी रहना तो एक मानसिक बीमारी है। दुख का संबंध मन से है। मन को निर्मल बनाएं, मन में खुशियां बटोरिए। छोटी-छोटी चीजों में खुशियां तलाशें। हमेशा मन को एक अन्य पात्र या चरित्र…
Read More...