शिवराम ने पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए जैविक खेती की शुरुआत की

लोगों को स्वस्थ रखने के लिए 10 बीघा में अनार का बाग लगाया

 अनीस आर खान

नई दिल्ली, पर्यावरण संरक्षण और जैविक खेती आज बेहद महत्वपूर्ण हो गई है। बढ़ती आबादी और औद्योगिक क्रांति के कारण हमारा पर्यावरण काफी दबाव में है। इस दबाव को कम करने के लिए जैविक खेती एक महत्वपूर्ण कदम है। अनार की खेती भारत में लंबे समय से की जाती रही है। यह एक लाभकारी फल है जो स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी है। जैविक खेती के माध्यम से अनार की खेती करके हम न केवल पर्यावरण की रक्षा करते हैं बल्कि शुद्ध और पौष्टिक फल भी प्राप्त करते हैं।
जैविक खेती क्या है?
जैविक खेती एक ऐसी कृषि प्रणाली है जिसमें रासायनिक खाद और कीटनाशकों का उपयोग नहीं किया जाता है। इसके बजाय, इसमें प्राकृतिक तरीकों और संसाधनों जैसे खाद, हरी खाद, जैविक कीटनाशक और फसल चक्र का उपयोग किया जाता है।
पर्यावरण पर जैविक खेती के लाभ
जैविक खेती मिट्टी की संरचना और सूक्ष्मजीव गतिविधि में सुधार करती है, जिससे मिट्टी की उर्वरता बढ़ती है। जैविक खेती में इस्तेमाल की जाने वाली विधियाँ मिट्टी की नमी को बनाए रखकर जल संरक्षण में भी मदद करती हैं। चूँकि जैविक खेती में किसी भी तरह के रासायनिक खाद और कीटनाशकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है, इसलिए जानवरों और पौधों की जैव विविधता बनी रहती है। रासायनिक खाद और कीटनाशकों से होने वाले जल और मिट्टी के प्रदूषण को जैविक खेती के ज़रिए कम किया जा सकता है।

क्या कहते हैं किसान शिवराम???
राजस्थान के नागौर जिले की पंचायत खींवसर के गांव पापासनी निवासी छतरराम के पुत्र शिवराम ने बताया, “मैं अपने खेत पर मूंगफली, जीरा, गेहूं आदि की फसल उगाता हूं। लेकिन मैंने 10 बीघा जमीन पर अनार भी लगाया है। मैं अनार के पौधों में जैविक खाद का इस्तेमाल करने के बारे में सोच रहा था, ताकि बाजार में मांग बढ़े और अच्छी पैदावार मिले।
एक दिन मेरे रिश्तेदार निम्बाराम की मुलाकात उरमूल सीमांत समिति, बज्जू के कार्यकर्ता रमजान खान से बाजार में हुई। उन्होंने निम्बाराम को बायोगैस के बारे में बताया और बताया कि बायोगैस सिस्टम लगाने से रसोई में खाना बनाने के लिए गैस और गाय के गोबर से शुद्ध घोल (खाद) मिलता है। इस खाद के इस्तेमाल से फसलों में बीमारियां नहीं लगतीं और उत्पादन भी बढ़ता है।
जब मेरे रिश्तेदार ने मुझे बायोगैस के बारे में बताया तो मैंने तुरंत रमजान जी से संपर्क किया और बायोगैस यूनिट सिस्टमा-8 लगवा ली। बायोगैस से मुझे हमेशा खाना बनाने के लिए गैस मिलती है, जिससे हर महीने करीब 1500 रुपये की बचत होती है। अनार के पौधों के लिए बायोगैस। इस साल, पौधे अविश्वसनीय रूप से रसीले और स्वस्थ हैं और उनमें काफी अंकुरण हुआ है। रासायनिक खाद और दवाइयों की कोई ज़रूरत नहीं है, जिससे हमें लगभग 40,000 रुपये की बचत होगी। मुझे पूरा भरोसा है कि अनार की पैदावार अच्छी होगी और पूरी तरह से जैविक होने के कारण बाज़ार में इसकी मांग बढ़ेगी, जिससे मुझे बहुत फ़ायदा होगा।
मैं बायोगैस की स्थापना से बहुत संतुष्ट हूँ। मैं अन्य किसानों को भी बायोगैस संयंत्र लगाने के लिए प्रोत्साहित करता हूँ। मैं उर्मुल सीमांत समिति और फार्म इंडिया के कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करना चाहता हूं, जिन्होंने न केवल मुझे बायोगैस के बारे में जानकारी दी, बल्कि 70% सब्सिडी भी प्रदान की, जिससे 50,500 रुपये की बायोगैस लागत घटकर मात्र 15,000 रुपये रह गई।”
जैविक खेती के आर्थिक लाभ
जैविक खेती में प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग के कारण, दीर्घावधि में लागत कम हो जाती है। स्वास्थ्य के प्रति बढ़ती जागरूकता के साथ, जैविक उत्पादों की मांग बढ़ रही है, जिससे किसानों को अच्छा मुनाफा मिल रहा है। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी और सहायता प्रदान की जा रही है। जैविक खेती पर्यावरण की रक्षा और टिकाऊ कृषि के लिए एक महत्वपूर्ण साधन है। यह न केवल हमारे पर्यावरण को संरक्षित करती है, बल्कि किसानों को आर्थिक लाभ भी प्रदान करती है। हमें जैविक खेती को अपनाने और इसके लाभों को समझने की आवश्यकता है ताकि भावी पीढ़ियों के लिए एक स्वस्थ और समृद्ध वातावरण प्रदान किया जा सके।

Leave A Reply

Your email address will not be published.