मानसून की पहली बारिश में दिल्ली पानी-पानी

नई दिल्ली, 28 जून । राजधानी में शुक्रवार को सुबह मानसून की पहली बारिश ने ही दिल्ली सरकार और अन्य एजेंसियों की पोल खोल कर रख दी। 40 से 50 किमी प्रति घंटा की स्पीड से तेज हवा के साथ मानसून की पहली तेज बारिश ने दिल्ली को पानी पानी कर दिया।

बारिश से लोगों को गर्मी से राहत जरूर मिली लेकिन जगह जगह जलजमाव ने लोगों की मुश्किलें भी बढ़ा दीं। सुबह दफ्तर जाने वाले लोग घंटों जाम में फंसे रहे। दिल्ली की प्रमुख सड़कें पानी से लबालब थीं। सुबह से ही आईटीओ समेत दिल्ली में कई जगहों पर जाम लगा रहा। हमेशा की तरह इस बार भी मानसून की पहली बरसात में ही मिंटो ब्रिज पर पहले जैसे ही खौफनाक नजारा दिखा। वहां एक ट्रक फंस गया। कमोबेश यही नजारा द्वारका, कापसहेड़ा, प्रगति मैदान और अन्य कई अंडरपास में देखने को मिला।

मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार आज पहली बरसात में ही सफदरजंग में 228 मिमी बारिश रिकार्ड की गई। आम लोगों के साथ खास लोगों के घरों में भी पानी घुस गया। कांग्रेस पार्टी के सांसद शशि थरूर और सपा सांसद रामगोपाल गोपाल के घरों में पानी भर गया। दिल्ली की मंत्री आतिशी के घर में भी पानी घुस गया। बारिश के पानी से स्कूल, कालेज यहां तक कि एम्स के अस्पताल के आसपास पानी भर गया। यमुना पार गुरुतेग बहादुर अस्पताल (शाहदरा) के ब्लड बैंक में भी पानी भर गया। दिल्ली विश्वविद्यालय की कुछ कक्षों के छतों से पानी झरने की तरह बहता नजर आया। यानि दिल्ली सरकार, एनडीएमसी, दिल्ली नगर निगम के सारे दावे पहली बरसात ने धो कर रख दिए।

कहां कहां भरा पानी
वसंत कुंज, ग्रेटर कैलाश, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, साकेत और मालवीय नगर सहित दक्षिणी दिल्ली के वीआईपी आवासीय इलाकों और सड़कों पर जलभराव दिखा। इसके साथ सराय काले खां, जंगपुरा, वजीरपुर, अशोक विहार, लक्ष्मी नगर, दक्षिणपुरी और पश्चिम विहार समेत कॉलोनियों और शहरी गांवों में जलभराव देखने को मिला। पूरे बाहरी रिंग रोड खंड, पीरागढ़ी गोल चक्कर और धौला कुआं पर बाढ़ जैसे हालात थे। गाजीपुर बॉर्डर, मुर्गा मंडी और धौला कुआं में अंडरपास के पास जलभराव के साथ मिंटो ब्रिज, तिलक ब्रिज, बादली, मूलचंद, आजादपुर, जखीरा, अशोक नगर अंडरपास और प्रगति मैदान सुरंग में बाढ़ जैसे हालात थे।
कहां कहां हुआ नुकसान
साकेत में घरों में पानी घुसने से लोगों के घरों के फर्नीचर और फर्श को नुकसान पहुंचा। आईटीओ की मुख्य सड़कों पर सुबह 9 बजे तक घुटनों तक पानी भरा रहा। रोहिणी के सेक्टर 13 में सड़क धंस गई और खड़ी कार खाई में गिर गई। तिमारपुर में निर्माणाधीन सड़क पर एक कार गड्ढे में गिर गई। भारी बारिश के कारण यशोभूमि द्वारका सेक्टर-25 मेट्रो स्टेशन पर कुछ समय के लिए एंट्री-एग्जिट बंद करना पड़ा। इसके साथ एयरोसिटी मेट्रो स्टेशन से आईजीआई टी-1 तक शटल सेवा कुछ घंटों के लिए निलंबित करनी पड़ी।
दिल्ली में भारी बारिश के कारण कई उड़ानें और ट्रेनें रद्द
तेज हवाओं और भारी बारिश के कारण हवाई अड्डा टर्मिनल 1 की छत टूटने के कारण बड़ा हादसा हुआ। इस हादसे की चपेट में एक टैक्सी आ गई, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए। इस घटना के कारण टर्मिनल-1 से उड़ानें दो बजे तक निलंबित करनी पड़ीं। इंडिगो एयरलाइंस ने टर्मिनल 1 से आने-जाने वाली अपनी सभी उड़ानें रद्द कर दीं। स्पाइसजेट ने भी अपनी उड़ानें रद्द कर दीं। खराब मौसम के कारण इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर 28 फ्लाइट्स रद्द करनी पड़ीं। देश के अलग-अलग हिस्सों से दिल्ली आने वाली कई ट्रेनें देरी से पहुंचीं। जलभराव के कारण सुबह हजरत निजामुद्दीन और सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की आवाजाही रोक दी गई।
क्या कहा दिल्ली की महापौर ने–
दिल्ली नगर निगम की महापौर शैली ओबरॉय ने कहा, ‘पिछली बार से स्थिति काफी बेहतर है। मानसून की पहली बारिश है। सभी जलभराव के प्वाइंट चिह्नित हो चुके हैं। तमाम अधिकारी जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं। जहां भी जलभराव है, वहां काम जारी है। दिल्ली की जनता को आज के बाद ऐसी स्थिति फिर नहीं मिलेगी। पिछली बार की तुलना में स्थिति नियंत्रित में हैं। सभी विभाग मिलकर काम करेंगे ताकि दोबारा जलभराव न हो। कई जगहों पर हमारे डिप्टी कमिश्नर मौजूद हैं।
पहले ही दिन पूरे मानसून में होने वाली बारिश का 25 प्रतिशत हुई बारिश
दिल्ली सरकार की मंत्री आतिशी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि दिल्ली में मानसून सीजन में अमूमन 800 मिलीमीटर बारिश होती है लेकिन आज पहले ही दिन 228 एमएम बारिश दर्ज की गई यानि 25 फीसदी बारिश एक ही दिन में हो गई। जलजमाव के जल स्तर को कम करने के लिए सारे कर्मचारी जुटे हुए हैं। अभी दिल्ली में नालों की क्षमता से ज्यादा बारिश हुई है, इसलिए जगह-जगह जलभराव देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि हमने पिछली बारिश तक लगभग 200 हॉटस्पॉट की पहचान की है। इनमें से 40 हॉटस्पॉट पीडब्ल्यूडी द्वारा सीसीटीवी निगरानी में हैं।
उपराज्यपाल ने बुलाई आपात बैठक
दिल्ली में मानसून की पहली बारिश से पैदा हुई मुश्किल को देखते हुए जहां दिल्ली सरकार ने आपात बैठक बुलाई, वहीं उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने भी आपात बैठक बुलाकर हालात की समीक्षा की। उपराज्यपाल ने विनय सक्सेना ने सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों तुरंत कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
दिल्ली पहुंचा मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी राहत: मौसम विभाग
मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में शुक्रवार की सुबह मानसून की पहली बारिश हुई। पहले ही दिन आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में दिल्ली के सफदरजंग में 228 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। इसके साथ ही मौसम विभाग ने आगामी 29 और 30 जून को दिल्ली में भारी बारिश होने की संभावना जताई है। 3 जुलाई तक दिल्ली में बारिश का येलो अलर्ट जारी किया गया है। शुक्रवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस के आस-पास बने रहने का अनुमान है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.